मध्‍यप्रदेश सरकार पर 88 हजार करोड़ रुपए बाजार का कर्ज

नाजुक वित्तीय हालत से गुजर रही राज्य सरकार सिर्फ बाजार से 88 हजार करोड़ रुपए का कर्ज उठा चुकी है। 04 Jun 2018  नाजुक वित्तीय हालत से गुजर रही राज्य सरकार सिर्फ बाजार से 88 हजार करोड़ रुपए का कर्ज उठा चुकी है। यह कर्ज गवर्नमेंट सिक्युरिटी को बेचकर उठाया गया है, जो राज्य सरकार के कुल कर्ज के पचास प्रतिशत से ज्यादा है। उल्लेखनीय … Continue reading मध्‍यप्रदेश सरकार पर 88 हजार करोड़ रुपए बाजार का कर्ज

बढ़ाए गए टैक्स के विरोध में व्यापारियों का प्रदर्शन

ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों ने रविवार को परिवहन विभाग द्वारा बढ़ाए गए विभिन्न मदों के टैक्स के विरोध में प्रदर्शन… Jan 30, 2017 ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों ने रविवार को परिवहन विभाग द्वारा बढ़ाए गए विभिन्न मदों के टैक्स के विरोध में प्रदर्शन किया। उन्होंने मप्र मोटरयान कराधान संशोधन विधेयक-2016 वापस लेने की मांग की। हालांकि इतवारा से सीएम हाउस की ओर निकाली जा रही रैली को पुलिस ने … Continue reading बढ़ाए गए टैक्स के विरोध में व्यापारियों का प्रदर्शन

MP में बिजली महंगी : 200 यूनिट खपत पर 170 रु. तक ज्यादा आएगा बिल

Apr 02, 2017, 06:58 AM IST भोपाल. एमपी में बिजली इस बार फिर 9.48 फीसदी महंगी हो गई। घरेलू बिजली दरों में 7.8 फीसदी का इजाफा हुआ। 200 यूनिट बिजली खपत करने पर हर महीने अन्य चार्ज मिलाकर बिल तकरीबन 1155 रुपए आता था। नए टैरिफ के अनुसार इतनी ही खपत पर 7.82 फीसदी इजाफा हो गया है। अब हर महीने सभी चार्ज मिलाकर करीब 1325 … Continue reading MP में बिजली महंगी : 200 यूनिट खपत पर 170 रु. तक ज्यादा आएगा बिल

परेशानी / आचार संहिता लगने से अब नहीं हटेगा मनोरंजन कर

Oct 06, 2018 भोपाल। विधानसभा चुनाव की घोषणा होते ही मप्र में भी आचार संहिता लागू हो गई, इसमें प्रदेश के सभी सिनेमाघर संचालक उलझ गए हैं। एक तरफ वह मनोरंजन कर के विरोध में हड़ताल पर चले गए हैं, वहीं अब आचार संहिता लगने से इस कर के हटने के सभी रास्ते भी बंद हो गए हैं। शाम तक सिनेमाघर संचालक, सेंट्रल सिने सर्किट एसोसिएशन … Continue reading परेशानी / आचार संहिता लगने से अब नहीं हटेगा मनोरंजन कर

Chief Minister’s Relief Fund misused in Madhya Pradesh at the expense of the poor

Misuse of chief minister’s fund at the expense of the poor. The Chief Minister’s Relief Fund, meant primarily to help the legions of destitute and victims of natural calamities, is being misused in Madhya Pradesh to provide pecuniary benefits to influential politicians, journalists, wealthy industrialists and even ex-princes and jagirdars. The gross abuse of the public fund by successive chief ministers over the past few … Continue reading Chief Minister’s Relief Fund misused in Madhya Pradesh at the expense of the poor

मुख्यमंत्री के निरस्त कार्यक्रमों से करोड़ों रुपए की बर्बादी, जनता के पैसे पानी की तरह खर्च

SEPTEMBER 30TH, 2018  देवास। सोनकच्छ में मुख्यमंत्री के आने की सुगबुगाहट पर लाखों रूपये का विशालकाय डोम स्थापित कर दिया गया था अचानक कार्यक्रम स्थगित हो गया और लाखों रूपये स्वाह हो गए। जामगोद के निकट भी एक ऐसा ही डोम कई दिनों से लगा हुआ है लेकिन कार्यक्रम निरस्त होने के बाद भी हटाया नहीं गया है। बताया जा रहा है की इसका रोज़ … Continue reading मुख्यमंत्री के निरस्त कार्यक्रमों से करोड़ों रुपए की बर्बादी, जनता के पैसे पानी की तरह खर्च

वोट के लिए सरकारी खजाने से 5000 करोड़ खर्च करेंगे शिवराज: बिजली बिल माफी योजना

03 JULY 2018 भोपाल। कड़की में चल रहे मध्यप्रदेश के सरकारी खजाने पर एक और बड़ा बोझ आ रहा है। डेढ़ लाख करोड़ से ज्यादा के कर्ज में दबी शिवराज सिंह सरकार ने चुनावी फायदा उठाने के लिए बिजली बिल माफी योजना लागू कर दी है। इसके तहत 5179 करोड़ का बिजली बिल माफ कर दिया जाएगा। बता दें कि इससे पहले गरीब नागरिकों को 200 … Continue reading वोट के लिए सरकारी खजाने से 5000 करोड़ खर्च करेंगे शिवराज: बिजली बिल माफी योजना

13 साल में 6 गुना बढ़ गया मध्यप्रदेश सरकार पर कर्ज

तेरह साल पहले जब प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी थी, तब मध्यप्रदेश सरकार पर 23 हजार करोड़ का कर्जा था, लेकिन इन त् ा े र ह सालों में कर्जे की राशि 6 गुना से अधिक बढ़ गई है। फिर भी सरकार कुछ नई बैंकों और संस्थानों से कर्ज लेने की तैयारी में जुटी हुई है। वर्ष 2002-03 के दौरान सरकार पर 23 हजार … Continue reading 13 साल में 6 गुना बढ़ गया मध्यप्रदेश सरकार पर कर्ज

मप्र में गहराया आर्थिक संकट, सरकार के पास सिर्फ वेतन देने का पैसा

02 Sep 2018  मध्यप्रदेश में आर्थिक संकट लगातार गहराता जा रहा है। फिजूलखर्ची और आमदनी अठन्नी, खर्चा रुपया के हालात ने प्रदेश के खजाने की सेहत बिगाड़ दी है। पिछले कुछ महीनों में तीन बार वेज एंड मींस (सिर्फ वेतन बांटने लायक पैसा बचा) की स्थिति पैदा हो चुकी है। हालत नहीं सुधरे तो मप्र अक्टूबर में ओवर ड्राफ्ट हो सकता है। वेज एंड मीन … Continue reading मप्र में गहराया आर्थिक संकट, सरकार के पास सिर्फ वेतन देने का पैसा