सहरिया महिलाएं बोलीं- हमें योजना का पोष्टिक भोजन क्यों नहीं मिलता

मप्र सरकार अनुसूचित जनजाति के व्यक्तियों के कल्याण के प्रति अति संवेदनशील है। शासन की मंशा है कि सहरिया जनजाति…

May 25, 2018, 04:45 AM IST

मप्र सरकार अनुसूचित जनजाति के व्यक्तियों के कल्याण के प्रति अति संवेदनशील है। शासन की मंशा है कि सहरिया जनजाति परिवार भी जिस प्रकार से आम नागरिक फल, सब्जी, दूध, गुड आदि का सेवन करता है उसी प्रकार सहरिया परिवार के बच्चों को भी इस प्रकार का पौष्टिक भोजन क्यों न कराया जाए और इसी मंशा को ध्यान में रखते हुए यह योजना लागू की गई है। शासन द्वारा हॉल ही में सभी सहारिया परिवारों की महिला सदस्यों को विशेष पोषण आहार के लिए परिवार की महिला सदस्य के खाते में एक-एक हजार रुपए की राशि प्रदान की जा रही है। लेकिन पिछोर क्षेत्र की ग्राम पंचायत बदरवास में सहरिया को फल-सब्जी तो अन्य कई योजनाओं से वंचित रखा जा रहा है, आदिवासी महिलाएं रेखा, जानकी, रामश्री, क्रांति रामकली, भानकुंअर ने बताया कि पंचायत में सरपंच सचिव हमारी नहीं सुनते, हमें फल-सब्जी योजना के तहत कभी एक रुपए भी नहीं दिया जा रहा है। जबकि अन्य पंचायतों में पैसे दिए जा रहे है। महिलाओं ने बताया कि पंचायत सचिव तो माह में कभी-कभी ही पंचायत में दिखाई देते है। परेशान आदिवासी महिलाओं ने पहले एसडीएम को लिखित शिकायत की है। जिसे एसडीएम ने सीईओ जनपद को मार्ग कर दिया तब दूसरे दिन लगभग आधा सैकड़ा महिलाओं ने सीईओ के पास जाकर अपनी समस्या रखी है।


Reference: https://www.bhaskar.com/mp/gwalior/news/latest-pichhor-news-044502-1791331.html

Image Courtesy:  Same As Above

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *