शुरू नहीं हुईं बंद 79 नल-जल योजनाएं, दूर से पानी ला रहे लोग

कम बारिश के कारण जलस्तर 20 फीट से नीचे उतरकर 25 फीट तक जा पहुंचा है। जल स्त्रोत बंद होने से लोग एक से दो किमी दूरी से पीने का पानी भरकर ला रहे हैं बावजूद इसके 79 नल-जल योजनाओं के नए बोर कराने के काम में अभी तक तेजी नहीं आई है। 10 साल से बंद 79 नल-जल योजनाओं को फिर से शुरू कराने के लिए शासन ने 18 करोड़ 98 लाख 25 हजार रुपए मंजूर किए थे। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, जलसंकट प्रभावित क्षेत्रों में पानी के नए बोर खनन का काम अब तक शुरू नहीं करा सका है। पेयजल की समस्या का समाधान नहीं होने के कारण लोग दूर-दराज के जलस्स्रोतों से पीने का पानी भरकर ला रहे हैं। पानी के परिवहन में महिलाएं, बच्चे व किशोरियां शामिल रहती हैं।

कहां, कितनी नल-जल योजनाएं बनेंगी: मुरैना विकासखंड क्षेत्र में 25 नई नल=जल योजनाओं पर काम शुरू कराया जाना प्रस्तावित है। पोरसा में 14, अंबाह में 13, सबलगढ़ में 11, जौरा में आठ, कैलारस में छह व पहाडग़ढ़ में दो स्थानों पर पुरानी नल-जल योजनाओं के स्थान पर नई जल योजनाओं के माध्यम से वहां के लोगों को पीने का पानी मुहैया कराया जाना है।

पांच फीट और उतरा जलस्तर: कम बारिश के कारण इस वर्ष नल-जल योजना व हैंडपंपों का जलस्तर 20 फीट से पांच फीट और नीचे उतर गया । जलस्तर 25 फीट तक गिर जाने के कारण रामपुरकलां, पहाडग़ढ़, झुंडपुरा, सुमावली व अंबाह क्षेत्र के 150 से अधिक गांव के लोग पीने का पानी भरने के लिए एक से दो किमी दूरी तक जा रहे हैं।


Reference: https://www.bhaskar.com/mp/murena/news/latest-morena-news-042503-2184181.html

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *