मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना में गड़बड़ी: अंधेरे में हुआ द्वारिकापुरी के लिए टिकटों का वितरण

भास्कर संवाददाता | छतरपुर 

बुजुर्गों को तीर्थयात्रा के लिए चलाई जा रही मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना में गड़बड़ी करने से भी अधिकारी-कर्मचारी चूक नहीं रहे हैं। ऐसे में अब इस बार ट्रेन जाने के पहले ही भीड़भाड़ के बीच अंधेरे में बुजुर्गो को टिकट बांटे गए और इसमें कई यात्रियों ने टिकट लेकर दूसरों को दे दी और वह तीर्थयात्रा के लिए रवाना भी हो गए हैं। खास बात यह है कि टिकट में गड़बड़ी करने के उद्देश्य से बगैर फोटो चस्पा किए टिकटों का वितरण किया गया।

गौरतलब है इस गोरखधंधे में कई बाबूओं के परिवार के सदस्य भी अन्य बुजुर्गो और उनके सहायकों के नाम से टिकट लेकर यात्रा के लिए रवाना हो गए। किसी अन्य के नाम से वह तीर्थ यात्रा के लिए रवाना हो गए। यह कारनामा विभाग के अफसरों द्वारा ही किया गया, जिन्होंने व्यक्तियों को दूसरे व्यक्तियों के नाम से टिकट जारी कर दी। घुवारा क्षेत्र की टिकट वितरण के दौरान जमकर धांधली हुई, जिसमें टिकट वितरणकर्ता द्वारा स्वयं ही प्राप्ति के हस्ताक्षर किए जा रहे थे।

अनुरक्षकाें की मिलीभगत से हुआ टिकटों में खेल : छतरपुर रेलवे स्टेशन से यह तीर्थयात्रा ट्रेन रात 10 बजे रवाना हुई, जिसमें पांच अनुरक्षकों की ड्यूटी निर्धारित की गई। इनके माध्यम से ही टिकट वितरण में जमकर खेल हुआ है। इन्होंने बुजुर्गो के नाम पर अपने संबंधी और परिचितों को लाभ पहुंचाया। इस पूरे खेल में मुख्य रुप से कलेक्टोरेट में पदस्थ निरंजन प्रकाश भटनागर शामिल हैं, जो पहले से टिकटों काे बचाए हुए रखे थे। टिकट वितरण के दौरान किसी भी यात्री के हस्ताक्षर नहीं कराए और अनुरक्षकों ने स्वयं ही हस्ताक्षर बना दिए हैं। इस दौरान घुवारा क्षेत्र के यात्री नंदलाल कुशवाहा उम्र 33 वर्ष मिले, जिन्होंने अपने नाम भोलेराम कुशवाहा निवासी डोगरपुर, तहसील घुवारा को भेज दिया। इस प्रकार से काफी गड़बड़ी इन अनुरक्षकों की मिलीभगत से हुई है।

अपर कलेक्टर दिनेश कुमार मौर्य ने कहा कि तीर्थदर्शन योजना के तहत ट्रेन रवाना हुई है। इसमें टिकटों में फोटो चस्पा की जाने थी, लेकिन यदि इस प्रकार से गड़बड़ी हुई है, तो संबंधितों के विरुद्ध कार्रवाई होगी। साथ ही यात्रियों की जांच भी कराते हैं।

अंधेरे में बैठे रहे वृद्धजन, दो समोसा देकर किया रवाना

रेलवे स्टेशन पर अंधेरे में ही वृद्धजन बैठे रहे। यहां पर तीर्थयात्री करीब 7 बजे पहुंच चुके थे। लेकिन वृद्धों को भोजन की व्यवस्था न कराते हुए प्रशासन ने दो समोसा देकर ही वृद्धजनों को तीर्थयात्रा के लिए रवाना कर दिया। अंधेरे का फायदा गड़बड़ीकर्ताओं ने जमकर उठाया, जिसमें आधार कार्ड की डार्क फोटोकॉपी कराकर टिकट प्राप्त की और यात्रा के लिए रवाना हो गए।


Reference: https://www.bhaskar.com/mp/chhatarpur/news/latest-chhatarpur-news-022617-2356757.html

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *