मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के टिकट वितरण में धांधली हो रही

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के टिकट वितरण में धांधली हो रही है। कई यात्री दूसरे के टिकट पर यात्रा कर रहे हैं। कुछ…

Bhaskar News Network | Last Modified – Jul 26, 2018, 02:05 AM IST

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के टिकट वितरण में धांधली हो रही है। कई यात्री दूसरे के टिकट पर यात्रा कर रहे हैं। कुछ कोच में तो आधे से ज्यादा टिकटों पर गैर-आवेदकों ने मजा लिया। 22 जुलाई को इंदौर से पंढरपुर ट्रेन इसका ज्वलंत उदाहरण है। इसमें कई यात्री हैं, जो दूसरों के टिकट पर यात्रा का मजा ले रहे हैं।

महेंद्र तिवारी  इंदौर

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना का दुरुपयोग हो रहा है। असल आवेदकों के टिकट पर फर्जी यात्री तीर्थदर्शन का फायदा उठा रहे हैं। इंदौर-पंढरपुर यात्रा में यह खुलासा हुआ है। डीबी स्टार की पड़ताल में कई यात्री ऐसे निकले, जिन्होंने दूसरे के टिकट पर यात्रा का मजा लिया। तीर्थदर्शन योजना के तहत इंदौर से पंढरपुर के लिए 22 जुलाई को ट्रेन रवाना हुई है। इसमें 459 यात्रियों का जत्था है। ट्रेन 26 जुलाई की शाम वापस इंदौर पहुंचेगी। इसी यात्रा के टिकटों के वितरण में बड़े पैमाने पर धांधली हुई है।

इस तरह हो रहा है फर्जीवाड़ा

ट्रेन के एस-4 कोच में लोअर बर्थ पर इंदौर तहसील की रामप्यारीबाई कश्यप (68) के नाम पर टिकट जारी हुआ है। उनकी जगह हीरा बाई जाधव ने यात्रा की। इसी कोच में एक मिडिल बर्थ अनोखी बाई (77) को मिली थी, मगर उनकी जगह लताबाई ने सफर किया। एक मिडिल सीट पर मीरा भंडारी का टिकट निकला था। यात्रा का लुत्फ सुनंदा गोरे ने उठाया। साइड लोअर बर्थ शंकरलाल (70) को अलॉट हुई थी। मुसाफिर बनकर शिवाजी गए। एस-10 कोच में विनीता की जगह राधा गईं। कविता की जगह नर्मदा ने सफर का मजा लिया। ऐसे कई मामले हैं जिनमें टिकट किसी के नाम का है और यात्रा किसी और ने की है।


Reference: https://www.bhaskar.com/mp/indore/news/latest-indore-news-020524-2294060.html

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *