खाना हो गया खत्म और लगी रही भूखों की कतार, वजह जान दंग रहे जाएंगे आप

Premshankar Tiwari | Publish: Apr, 08 2017 03:42:00 PM (IST)                                       Jabalpur, Madhya Pradesh, India
जबलपुर। तमिलनाडू और यूपी की तर्ज पर एमपी में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे इसके लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा दीनदयाल रसोई योजना की शुरुआत की गई है। जबलपुर में योजना शुरुआत से ही दम तोडऩे लगी है। 5 रुपए वाली इस थाली में चार रोटी, एक सब्जी, दाल सहित चावल से भरने वाले पेट का सपना शनिवार को चूर-चूर होता दिखा। दीनदयाल की रसोई में जहां क्वालिटी गड़बड़ रही तो वहीं बीच में ही खाना खत्म होने पर भूखे लोगों ने हंगामा खड़ा कर दिया। हालांकि समझाइश के बाद लोग शांत हुए। लेकिन जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते योजना साफ विफल दिखी।
मुरझा गए कई चेहरे
एक साथ पूरे प्रदेश भर के 49 जिलों के साथ जब जबलपुर के राजा गोकुलदास धर्मशाला में दीनदयाल रसोई का शुभारंभ हुआ तो सभी के चेहरे खिल उठे। प्रदेश के स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री शरद जैन, महापौर स्वाति गोडबोले ने महामंडलेश्वर स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरी की विशेष उपस्थिति में शुक्रवार को शुरुआत की। इसमें महज पांच रुपए में लजीज खाना पाकर यहां गरीबों के चेहरे खिल उठे। लेकिन दूसरे दिन दर्जनों गरीब लाइन में पांच रुपए लिए खड़े रहे और खाना खत्म हो गया। इससे उनका चेहरा मुरझा गया।
Negligence in the kitchen scheme of Deendayal
पूरा परिसर रहा अस्त-व्यस्त

शनिवार को दीनदयाल रसोई की थाली दूसरे दिन काफी अस्त-व्यस्त दिखी। खाने में झोल ही झोल होने व गुणवत्ताहीन होने से लोगों ने हंगामा किया। इसके साथ ही थाली से अचार, सलाद, पापड़, मीठा आदि गायब दिखा। जबकि पहले दिन बकायदा खीर, पूरी, पनीर की सब्जी पुलाव आदि लजीज व्यंजन परोसा गया था। हैरत की बात तो यह रही कि खाना ख़त्म हो गया था और भूखे लोग कतार में अपनी बारी का इंतजार ही करते रहे।


Reference: https://www.patrika.com/jabalpur-news/negligence-on-deendayal-ki-rasoi-in-jabalpur-1548374/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *